कयो सुणा गल


इक जमाना था जालू हिमाचली पहाडी भाषा दा रूतबा हुदां था। टैम बीतया कने पहाडी बोली बणी कर रई गई। इयां ता इसते कोई फर्क नी पोन्दा। पहाडी असान्दे दिले मंजा बसदी है। अपण अजकल देया टैम है कि अगर असां अपणे दिले दी धडकन समाली की नी रखी ता किछ भी नी बचणा। हुण टैम देया है कि असां जो चीजां समाली की रखणा पोन्दियां। भाशा जो लिखी की रखणा जरूरी हुन्दा ताकि ओणे मालियां पीिढंयों जो यह छैल चीज जरूर मिले। पहाडिया जो भाशा बनाणे ताईं जे अभियान चलया है इस बिच असां सारेयां जो योगदान करणा चाइदा। हिमाचली लेखक कनै और भी लोक मेन्नत करे कदे हैन। साहित्य अकादमियें भी पहाडी भाशा वास्ते इक समीति बणाइयो है। हर पासे तो कोशिश लगियो है। इंटरनैटे पर भी कोशिश होणा चाइदी। इसी गल्ला सोची करी असां यह ब्लॉग बणाया है। मकसद अपणे दिले दी धडकन जिदां रखणे दा है। असां जो कुसी भी भाशा कने कंपीटीशन नी करना है। इयां भी पहाडी लोक दिले दे साफ हुदें हैन। बस असां हुण पहाडी लीखणी है। एई मकसद है। कमियां हैन अपण इरादे खरे हैन। 



pahadi2@gmail.com
(9891879501)