5.4.10

हुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ: हिमाचली लोकगीत

हुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ
बापुएं लडें तेरे ओ लायी

रिडिया ता रिडिया धुडू भला नसदा
नालें ता खोलें गौरां तोपदी

कजो वो कुआरी बाबुल दे घरें
अज वो ब्याइयाँ कजो भला छोडदा

गौरां ता गोरां हक्कां वो लाइयाँ
गोरां ता हक्का ना वो सुनदी

मगरियां चालीं चल मेरे धुडुआ
नाजुक पैरां छाले ओ आये

छन्द छन्द धुडुआ भाली ओ लयां
नाजुक लत्ता ना चलदी

मलिया रा कूड़ा मलिया सुटना
ना तेरी धीयाँ ना तेरी जोतनी

असं भला होंदे मलिया रे जोगी
तू ता हुंदी राजे दे बेटी

उचेयाँ कैलाशा शिव मेरा बसदा
कुन वो ग्लांदा गौरां नी बसदा

हुंण वो कतायें जो नसदा वो धुडुआ
बापुएं लडें तेरे ओ लायी





भगवान् शिव कन्ने माता पार्वती पर बणया ये गाणा बोत पराणा हिमाचली लोकगीत है. इस गाणे मंजा शिव भगवान् जो धुदु कन्ने माता पार्वती जो गोरां गलाया है. तुसां इस गाणे जो गायक करनैल राणा दिया आवाज बिच ऊपर दीते लिंक पर सूनी सकदे.

3 टिप्‍पणियां:

  1. bahut sundar


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. Aha last weekend we were humming this song but lost lyrics, thanks.. for posting..

    उत्तर देंहटाएं
  3. Badka ji tussan bada hi badiya blog likhiya hai..
    Realy good.

    Manni giya.....mera bhi chota diya blog hai
    http://pahadilok.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं